April 15, 2024

Join With Us


किसान की जिंदगी का बदला रंग : 3 महीने में कमा रहा 4-5 लाख का मुनाफा

रायबरेली में खरबूजे ने एक किसान की जिंदगी का ही रंग बदल दिया


रायबरेली | न्यूज डेस्क | रायबरेली में खरबूजे ने एक किसान की जिंदगी का ही रंग बदल दिया | वह खरबूजे की खेती से ही मालामाल हो रहा है | दरअसल, रायबरेली जनपद के बछरावां थाना क्षेत्र अंतर्गत जलालपुर गांव के रहने वाले प्रगतिशील किसान दिलीप वर्मा बीते लगभग 2 वर्षों से खरबूजे की खेती कर रहे हैं | जिससे वह कम लागत में अधिक मुनाफा कमा रहे हैं |

प्रगतिशील किसान दिलीप वर्मा के मुताबिक वह लगभग 5 एकड़ जमीन पर खरबूजे की खेती कर रहे हैं | क्योंकि यह एक नगदी फसल होने के साथ ही गर्मियों के मौसम में बाजारों में इसकी मांग अधिक रहती है | जिससे आसानी से इसकी बिक्री भी हो जाती है |वह खरबूजे की चार प्रजातियां बाबी, मृदुल, निर्मल- 24, मधुरा की खेती करते हैं | यह प्रजातियां उन्नत किस्म की प्रजातियां मानी जाती हैं | जिनकी पैदावार भी खूब होती है |


 लखनऊ जनपद कुर्मिन खेड़ा गांव के रहने वाले उनके एक रिश्तेदार सत्येंद्र वर्मा ने उन्हें इस खेती के बारे में सलाह दी | क्योंकि वह पहले से ही खरबूजे की खेती करते थे | उन्हीं की सलाह पर हमने यह खेती शुरू की जिससे मानो हमारी जिंदगी ही बदल गई | क्योंकि इसमें अन्य फसलों की तुलना में लागत भी कम आती है | साथ ही इसकी सिंचाई भी कम करनी पड़ती है | यह फसल 90 दिन के अंदर तैयार हो जाती है |


 किसान दिलीप वर्मा बताते हैं, कि परंपरागत खेती यानी धान गेहूं की फसलों की अपेक्षा इस खेती में लागत भी काम आती है |साथ ही कम समय में यह फसल तैयार हो जाती है |इसमें एक एकड़ में लगभग 50 से 60 हजार रुपए की लागत आती है | तो वहीं लागत के सापेक्ष 4 लाख 5 रुपए तक 3 महीने में आसानी से कमाई भी हो जाती हैं | जो अन्य फसलों की तुलना में काफी अधिक है | आगे की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि खेतों में तैयार फसल की बिक्री के लिए भी उन्हें कहीं आना-जाना नहीं पड़ता है | थोक के भाव व्यापारी इसे खेत से ही खरीद ले जाते हैं | जिससे उनके आवागमन का भी खर्च बच जाता है |





+36
°
C
+39°
+29°
New Delhi
Wednesday, 10
See 7-Day Forecast

Advertisement







Tranding News

Get In Touch
Avatar

सोनम कौर भाटिया

प्रधान संपादक

+91 73540 77535

contact@vcannews.com

© Vcannews. All Rights Reserved. Developed by NEETWEE